राजनीतिक हित और नफा-नुकसान के आधार पर मानवाधिकार की व्याख्या लोकतंत्र के लिए खतरनाक : PM MODI

नई दिल्ली/ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के 28वें स्थापना दिवस समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मानवाधिकारों की चयनित तरीके से व्याख्या करने वालों तथा

SCO के शिखर बैठक में PM MODI ने कहा : शांति व सुरक्षा से जुड़ी चुनौतियां बढ़ती है कट्टरता

नई दिल्ली/ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को शांति, सुरक्षा और विश्वास की कमी को क्षेत्र की सबसे बड़ी चुनौती करार देते हुए कहा कि

कोरोना काल में भारतीय राजनीति का निर्बल पक्ष हुआ उजागर

राजेन्द्र बहादुर सिंह राणा विश्व के कई देशों की तरह कोविड 19 ने भारत को भी जबरदस्त तरीके से परेशान कर रखा है। चीन के

नीति और नियत बदलें : आलम यही रहा तो निश्चित तौर पर जनता का विश्वास खो देगी RSS

संजय रोकड़े देश में कोरोना काल में जो तबाही मची है उसके चलते आरएसएस व राजनीतिक सत्ता संभालने वाली उसकी बेटी के रूप में पहचानी

कोरोना महामारी : नकारात्मक खबरें तो बहुत पढ़ी, आइए सरकार के प्रयासों पर थोड़ी चर्चा करते हैं

पंकज सिंहा भारत सरकार पूरे देश में ‘‘सभी के लिए स्वास्थ्य‘‘ के लिए अथक प्रयास करने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में

विरोध के जनादेश को हल्के मत लीजिए, मोदी जी!

बलदेश शर्मा/शिमल क्या सरकार कोरोना के प्रबन्धन मेें असफल हो चुकी है? क्या लोगों ने कोरोना को गंभीरता से नहीं लिया है? इस समय इन

हमारे वर्तमान नेतृत्व में न तो सामूहिकता है न ही अनामिकता

गौतम चौधरी  ‘‘निंदक नियरे राखिए ऑंगन कुटी छवाय, बिन पानी साबुन बिना निर्मल करे सुभाय।’’ आलोचना लोकतंत्र का श्रृंगार है। खासकर नेतृत्व को इसे केवल नाकारात्मक

अंदाज-ए-मोदी:वैक्सीनेशन के दौरान प्रधानमंत्री ने नर्सों से कहा- नेता मोटी चमड़े वाले होते हैं, क्या उनके लिए कोई खास सुई है?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को जब कोरोना वैक्सीन लगवाने एम्स पहुंचे तो उन्होंने अपने अलग अंदाज के जरिए माहौल को हल्का करने की कोशिश की।

Translate »