रहस्य रोमांच/ हिमाचल की वह अनोखी झील, जहां रात को उतरती है परियां

गौतम चौधरी  हिमांचल प्रदेश की यह झील कई रहस्यों को अपने में समेटे हुए है। लोग कहते हैं कि यहां रात में परियां उतरती हैं,

झारखंड की प्रेम कहानी/ पांच बहनों को जब मिला प्रेम में धोखा तो बन गयी जलप्रपात की पांच धाराएं 

गौतम चौधरी जनपदों व ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी कुछ ऐसी कथा सुनने को मिलती है जो प्रकृति से जुड़ी होती है लेकिन उसका मानवीय

विश्व गौरैया दिवस पर विशेष/ गौरैया की विलुप्ति की त्रासदी चिंताजनक

ललित गर्ग विश्व गौरैया दिवस 20 मार्च को दुनिया भर में मनाने का उद्देश्य गौरैया पक्षी की लुप्त होती प्रजाति को बचाना है। पेड़ों की

पर्यावरण/ उत्तरी भारत में बाढ़ से भारी नुकसान : प्राकृतिक नहीं, पूँजीवादी व्यवस्था की नाकामी का नतीजा

लखविंदर सिंह उत्तरी भारत में मानसून की भारी बारिश के कारण पंजाब और हिमाचल प्रदेश के कई इलाके बाढ़ का शिकार हुए हैं। हरियाणा के

विश्व वन्य जीव दिवस/ पर्यावरण संतुलन के लिये वन्यजीवों की रक्षा जरूरी

ललित गर्ग अपने स्वार्थ के लिए प्रकृति का अंधाधुंध दोहन करने में डूबे इंसान को अब यह अंदाजा ही नहीं रह गया है कि वह

पर्यावरणीय पर ऑक्सफैम की रिपोर्ट भयावह, जिम्मेदार अभिजात्य वर्ग और मार झेलती मेहनतकश जनता

सार्थक आज मेहनतकश जनता के सामने पर्यावरणीय विनाश और जलवायु संकट एक ऐसा मुद्दा बन चुका है जिससे हम मुँह नहीं मोड़ सकते। चाहे गर्मियों

जमींदोज होता आदिगुरू शंकराचार्य की स्मृतियों का ज्योतिर्मठ

जयसिंह रावत सामरिक, धार्मिक, पर्यटन और पर्यावरण की दृष्टि से देश का अति महत्वपूर्ण नगर जोशीमठ के धंसने से उत्पन्न आपदा की स्थिति देखते हुये

संस्मरण/ जब मैं श्री सुंदरलाल बहुगुणा से मिला

डॉ वीरेंद्र भाटी मंगल चिपको आंदोलन के प्रणेता सुन्दरलाल बहुगुणा से मेरा मिलना हुआ। सफेद चोला-पाजामा व सिर पर बंधा सफेद स्कार्फ व दाढी उनकी

नमामी गंगे ही क्यों नमामि यमुने क्यों नहीं?

डॉ. वेदप्रकाश हाल ही में जल शक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत ने कहा है कि गोमुख से गंगासागर तक गंगा स्वच्छ हो गई है। यह केवल

हिमाचल और उत्तराखंड में “विकास” योजनाओं से हो रहा विनाश

पुष्पिंदर पिछले वर्ष अगस्त महीने में कविता, जो हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के अंजी गाँव की वासी और सरपंच है, अपने घर की छत

Translate »