फिल्म साक्षात्कार/ जीरो फिगर के मुकाबले फिट रहना ज्यादा जरूरी : मृणाल ठाकुर

फिल्म साक्षात्कार/ जीरो फिगर के मुकाबले फिट रहना ज्यादा जरूरी : मृणाल ठाकुर

सुभाष शिरढोनकर

मॉडल-एक्ट्रेस मृणाल ठाकुर जब कॉलेज में पढ़ती थीं, उन्होंने छोटे पर्दे के धारावाहिक ’मुझसे कुछ कहती ये खामोशियां’ के साथ अपने एक्टिंग कैरियर की शुरूआत की। 2012-2013 में प्रसारित इस धारावाहिक में उन्होंने गौरी भौंसले का बेहद शानदार किरदार निभाया था। ’कुमकुम भाग्य’ में उन्होंने बुलबुल अरोड़ा का किरदार निभाया। उसे दर्शकों ने खूब पसंद किया। उसी दौरान उन्हें मराठी फिल्मों ’विट््टी डांडू’ (2014) और ’सुराज्य’ (2014) में काम करने का अवसर मिला।

गुरू रंधावा के साथ मृणाल ठाकुर म्यूजिक वीडियो ’अभी न छोड़ो…’ में एक अनोखे क्यूट लुक में नजर आईं। बॉलीवुड में उनकी डेब्यू फिल्म 2018 में आई ’लव सोनिया’ थी। उसके बाद अब तक वह ’सुपर 30’ (2019) ’बाटला हाउस’ (2019) ’तूफान’ (2021) ’धमाका’ (2021) और ’जर्सी’ (2022)’ जैसी फिल्में कर चुकी हैं।

मृणाल ठाकुर, तेलुगु फिल्म ’सीताराम’ के अलावा बॉलीवुड फिल्में ’आंख मिचैली’, ’पिप्पा’ और ’गुमराह’ कर रही है। ’पिप्पा’ भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की कहानी पर आधारित है। इसमें वह ईशान खट््टर के अपोजिट नजर आएंगी। इसमें मृणाल का एक बिलकुल अलग लुक नजर आएगा।

प्रस्तुत हैं मृणाल ठाकुर के साथ की गई बातचीत के मुख्य अंश :

पिछले दिनों एक बयान देते हुए आपने कहा था कि संजय लीला भंसाली की ’गंगूबाई काठियावाड़ी’ को आपने 4-5 बार थियेटर में देखा। क्या वह सब कुछ सिर्फ इसलिए कि आप भी कभी संजय भंसाली की किसी फिल्म का हिस्सा बन सकें?
इस दौर में कौनसा एक्टर होगा जो संजय सर के साथ काम करना नहीं चाहेगा। मैं किसी और फिल्म की बात क्यों करूं। सच तो यह है कि मैं खुद ’गंगूबाई काठियावाड़ी’ का हिस्सा बनना चाहती थी लेकिन वह फिल्म आलिया की किस्मत में लिखी थी और उसने आलिया को एक एक्ट्रेस के रूप में अमर कर दिया।

दुलकर सलमान के अपोजिट आप ’सीताराम’ के जरिये तेलुगु फिल्मों में डेब्यू करने जा रही हैं। कहा जा रहा है कि इस फिल्म में आपका लुक हू ब हू बीते समय की एक्ट्रेस मधुबाला की तरह नजर आएगा?
बिलकुल, और यह मेरे लिए बेहद सम्मान की बात है। वैसे भी यह फिल्म मेरे लिए बेहद खास है क्योंकि इसके जरिये मुझे दुलकर के साथ जुड़ने का अवसर मिला। पूरी फिल्म ऑडियंस के एंटरटेनमेंट को ध्यान में रखे हुए बनाई जा रही है। इसमें काम करते हुए मैंने काफी एंजॉय किया। उम्मीद करती हूं कि ऑडियंस को फिल्म काफी पसंद आएगी।

क्या यह सच है कि आप जब कभी अमेरिका जाती हैं, वहां के लोग आपको इंडियन करदाशियां कहकर बुलाते हैं?
जब मैं अमेरिका गई थी, वहां पर कुछ महिलाओं ने मुझसे कहा था कि मेरे जैसा फिगर पाने के लिए वो जमकर पैसा खर्च करती हैं, इसके बावजूद वैसा फिगर नहीं बन पाता। जब वहां की कुछ महिलाओं ने मेरे अच्छे फिगर के लिए मुझे इंडियन करदाशियां कहा तो मेरी खुशी का कोई ठिकाना ही नहीं रहा लेकिन मैं एक बात अवश्य कहना चाहूंगी कि ’जीरो’ फिगर के मुकाबले फिट और स्वस्थ होना ज्यादा जरूरी है।

आपको ’जर्सी’ की रिलीज का बेसब्री से इंतजार था। फिल्म की कामयाबी को लेकर आप बेहद आश्वस्त थीं लेकिन फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह ढेर हो गई?
मुझे लगता है कि दो-दो लॉक डाउन इसकी सबसे बड़ी वजह बने। लॉक डाउन में जब नई फिल्में नहीं आ रही थीं, ज्यादातर ऑडियंस ने साउथ की अच्छी अच्छी फिल्मों का जमकर लुत्फ उठाया। ’जर्सी’ साउथ की एक ऐसी ही फिल्म थी जिसे हिंदी ऑडियंस ने कई कई बार देखा और खूब पसंद किया। हमें लगता है कि इस वजह से फिल्म का हिंदी वर्जन ऑडियंस पर उतना असर नहीं छोड़ सका।

’जर्सी’ के बाद अब आप साउथ की ही एक और सुपर हिट फिल्म ’थडम’ का हिंदी रीमेक ’गुमराह’ कर रही हैं। इसके बारे में बताइये?
यह सच्ची घटनाओं पर आधारित क्राइम थ्रिलर है। इसमें आदित्य रॉय के अपोजिट मैं एक पुलिस अधिकारी का किरदार निभा रही हूं। फिल्म में आदित्य का डबल रोल है।

(अदिति)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »