व्यायाम करने से पहले गलतफहमियां न पालें

व्यायाम करने से पहले गलतफहमियां न पालें

सारिका

बहुत सारे लोग व्यायाम तो करना चाहते हैं पर कुछ विचार ऐसे हैं जिन्हें वे निकाल नहीं पा रहे। गलतफहमियों का शिकार न बनें। दौड़ना है तो उसके लिए जूता अलग से क्यों खरीदा जाए, व्यायाम से पूर्व कुछ खाने की क्या जरूरत है, व्यायाम तो बस सुबह ही करना चाहिए, बाद में नहीं? ऐसे वहम आपने भी पाल रखे हों तो उन्हें शांत करें और व्यायाम से मिलने वाले अच्छे परिणाम की सोच कर नियमित व्यायाम करना आरंभ कर दें।

बहुत से लोग एक ही तरह के व्यायाम को जीवनपर्यन्त जारी रखना चाहते हैं और शिकायत करते हैं कि उनका वजन कम नहीं हो रहा। एक्सपर्टस के मुताबिक एक ही तरह के व्यायाम का हमारा शरीर आदी हो जाता है जिससे शरीर पर प्रभाव नहीं पड़ता।

कुछ दिन वॉक पर जाएं तो कुछ दिन एरोबिक्स करें, कुछ ेिदन जिम तो कुछ दिन योगाभ्यास। तब शरीर पर इसका प्रभाव दिखाई देगा। जैसे हम रोज एक ही टाइप का खाना पसंद नहीं करते, बदलाव अच्छा लगता है, ठीक उसी प्रकार व्यायाम में भी बदलाव जरूरी है।

अगर आप दौड़ लगाते हैं, ट्रेडमिल पर चलते हैं, एरोबिक्स करते हैं तो उसी अनुसार जूता खरीदें क्योंकि इन सब व्यायामों में सारा दबाव पैरों पर पड़ता है। अगर हम एक ही जूते से आफिस भी चले जाएं, सैर भी करें और दौड़ भी लगाएं, एरोबिक्स भी करें और ट्रेडमिल पर भी चलें तो जूता हमारे पांव को थकाएगा जिससे हमारा व्यायाम का उत्साह कम हो जाएगा इसलिए व्यायाम के अनुसार ही जूता खरीदना चाहिए।

आज का लाइफ स्टाइल इतना बदल गया है कि आफिस लेट नाइट तक खुले रहते हैं। देर से घर आकर प्रातः जल्दी उठ व्यायाम करना संभव नहीं होता। ऐसे में व्यायाम को बॉय न कहें। जब भी उठें, कुछ न कुछ शारीरिक व्यायाम अवश्य कर लें ताकि तारतम्यता न टूटे। बस ध्यान दें कि व्यायाम करने से पूर्व पेट भरा न हो।

व्यायाम से पहले वार्मअप, स्ट्रेचिंग करना उतना ही आवश्यक है जितना व्यायाम। इसके करने से अंदरूनी टूटफूट ठीक होती है और मांसपेशियों को भी आराम मिलता है। इसी प्रकार योगासन से पूर्व सूक्ष्म क्रियाएं मांसपेशियों को हल्का कर देती हैं जिससे आसन करना आसान हो जाता है। वार्मअप, स्ट्रेचिंग व सूक्ष्म क्रियाएं करने से हमारी व्यायाम करने की क्षमता बढ़ती है। इसे करना न भूलें।

जल्दी और ज्यादा प्रभाव की चाहत में अपनी क्षमता से आगे न जाएं। यह ठीक नहीं होता। हमेशा व्यायाम अपनी क्षमता अनुसार ही करें। अधिक दबाव से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है।

बिल्कुल भूखे पेट व्यायाम करना ठीक नहीं है। व्यायाम में ऊर्जा खर्च होती है। अगर हम बिल्कुल भूखे होंगे तो शरीर में ऊर्जा की कमी से थकान जल्दी होने लगेगी। व्यायाम पूरा नहीं हो पाएगा।
लंबी सैर करने जा रहे हैं या दौड़ लगाने तो एक केला खा लें। योगासन करने हैं तो खाली पेट करें। व्यायाम से पूर्व चाय और एक दो बिस्किट भी ले सकते हैं।

(स्वास्थ्य दर्पण)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »