Mahashivratri 2021: 130 साल बाद महाशिवरात्रि पर बन रहा है विशेष संयोग, ये काम करने से मिलेगा लाभ

Mahashivratri 2021: 130 साल बाद महाशिवरात्रि पर बन रहा है विशेष संयोग, ये काम करने से मिलेगा लाभ

महाशिवरात्रि (Mahashivratri) के मौके पर भक्त भगवान शंकर को खुश करने के लिए जलाभिषेक और रुद्राभिषेक (Rudrabhishek) करते हैं इस बार महाशिवरात्रि पर दुर्लभ संयोग बन रहा है. 130 सालों बाद यह योग बन रहा है जिसमें सर्वाध सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग मिल रहा है. ऐसे में शिवरात्रि पर भगवान शंकर की पूजा करने का विशेष महत्व है. इस बार महाशिवरात्रि के मौके पर श्रद्धालु 80 दाना खड़ा चावल और 80 समी का पत्र भगवान शंकर को जरूर चढ़ाएं. इससे भक्तों की सभी मनोकमना पूर्ण होगी.

इस बार महाशिवरात्रि का पावन पर्व 11 मार्च यानी गुरुवार मनाया जाएगा. इस पावन पर्व पर शिव के साथ माता पार्वती की पूजा भी की जाती है. शिवरात्रि के दिन रात में पूजा करना सबसे फलदायी माना गया है. इस दिन भगवान शिव की पूजा विशेष सामग्रियों के साथ की जाती है. पूजा में पुष्प, बिल्वपत्र, भांग, धतूरा, बेर, जौ की बालें, आम्र मंजरी, मंदार पुष्प, गाय का कच्चा दूध, गन्ने का रस, दही, देसी घी, शहद, गंगा जल, साफ जल, कपूर, धूप, दीपक, रूई, चंदन, पंच फल, पंच मेवा, पंच रस, गंध रोली, इत्र, मौली जनेऊ, शिव और मां पार्वती की श्रृंगार की सामग्री, वस्त्राभूषण, रत्न, पंच मिष्ठान्न, दक्षिणा, पूजा के बर्तन, कुशासन का इस्तेमाल किया जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »