सितारों की दुनियां : चलिए जानते हैं अपने किरदार की तरह नजर आने वाले मेनन को

सितारों की दुनियां : चलिए जानते हैं अपने किरदार की तरह नजर आने वाले मेनन को

सुभाष शिरढोनकर

के. के. मेनन, जिनका पूरा नाम कृष्ण कुमार मेनन है, का जन्म 2 अक्टूबर, 1966 को केरला के हिंदू नायर परिवार में हुआ था। जब वे बहुत छोटे थे, उनके पिता का निधन हो गया। उनकी मां का नाम राधा मेनन है। के. के. मेनन की परवरिश पुणे में हुई।

पुणे के खाड़की स्थित, सेंट जोसेफ हाईस्कूल से, के. के. मेनन ने 1981 में एस.एस.सी. किया। उसके बाद वे पुणे से मुंबई से सटे ठाणे जिले के कस्बे अम्बरनाथ आ गये। मुंबई यूनिवर्सिटी से फिजिक्स में बेचलर्स डिग्री लेने के बाद वे फिर से पुणे चले गये और वहां पर उन्होंने डिपार्टमेंट ऑफ मेनेजमेंट साइंस से एम.बी.ए. किया।

सबसे ज्यादा शिक्षित लोगों के प्रदेश केरल से होने की वजह से शायद पढाई के.के मेनन के संस्कारों में रची बसी है। इसलिए वह अधिक से अधिक पढ़ना चाहते थे। पढाई के दौरान उन्होंने घर खर्चो के लिए एक एड एजेंसी में मॉडल के रूप में काम भी किया था।

मॉडलिंग करते हुए के.के. मेनन के मन में एक्टिंग के प्रति उत्सुकता पैदा हुई और वो थियेटर के साथ जुड़ गये। जल्दी ही उन्हैं नसीरूद्दीन शाह के साथ ’महात्मा वर्सेस गांधी’ में करने का अवसर मिल गया।

थियेटर करने के दौरान के.के.मेनन की मुलाकात निवेदिता भट््टाचार्य से हुई जिनके साथ बाद में उन्होंने शादी कर ली। थियेटर के साथ ही साथ वे मॉडलिंग भी करते रहे और मॉडलिंग में ’कायनेटिक होंडा’ और ’मार्लबोरो सिगरेट’ के उनके एड. काफी मशहूर भी हुए।

के.के.मेनन ने टेलीविजन के लिए टी.वी. मूवी ’जेबरा 2’ और ’लास्ट ट्रेन टू महाकाली’ कीं। इसके बाद वे जीटीवी पर 2001 में प्रसारित केतन मेहता के धारावाहिक प्रधान मंत्राी’ में नजर आए।

के.के. मेनन ने फिल्मों में अपनी शुरूआत ’नसीम’ (1995) के छोटे से किरदार के साथ की। उसके बाद उन्होंने ’भोपाल एक्सप्रेस’’ (1999) ’हजारों ख्वाहिशें ऐसी’ (2005) ’सरकार’ (2005) ’कॉपोरेट’ (2006) ’लाइफ इन मेट्रो’ (2007) ’शाहिद’ (2012) ’अंकुर अरोरा मर्डर केस’ (2013) और ’हैदर’ (2014) जैसी छोटे बड़े किरदारों वाली अनेक फिल्में कीं।

’सरकार’ (2005) के लिए के.के. मेनन को बेस्ट परफारमेंस इन नेगेटिव रोल के लिए फिल्मफेयर नॉमिनेशन भी मिला। हिंदी फिल्मों के साथ ही साथ के.के.मेनन ने तमिल फिल्म ’उध्यम एन एच 14’ (2013) मराठी फिल्म ’एक सांगायच’ (2018) गुजराती फिल्म ’धाध’ (2018) और नेटफ्लिक्स के लिए ’पेनल्टी’ (2019) की।

’लाइफ इन मेट्रो’ (2007) में के.के. मेनन शिल्पा शेट््टी के पति के किरदार में नजर आये थे। नीरज पांडे की वेब सिरीज ’स्पेशल ऑप्स’ में के के मेनन ने एक एजंेट की भूमिका निभाई थी जिसे लोगों ने काफी पसंद भी किया था।

के. के. मेनन की खास बात यह है कि वह जो भी किरदार निभाते हैं उसमें, वह उस किरदार की तरह ही नजर आते हैं। के.के. मेनन निरंतर अपने अभिनय का लोहा मनवाते रहे हैं। अभिनय के लिए अब तक उन्हें, न जाने कितने ही पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है।

(युवराज)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »