मेरा मन काम से अलग होना नहीं चाहता, पर अब स्वास्थ्य साथ नहीं देता : अमिताभ बच्चन

मेरा मन काम से अलग होना नहीं चाहता, पर अब स्वास्थ्य साथ नहीं देता : अमिताभ बच्चन

सुभाष शिरढोनकर

बॉलीवुड में मेगा स्टार के नाम से चर्चित अमिताभ बच्चन पिछले 5 दशक में 200 से अधिक फिल्मों में काम कर चुके हैं। इनमें से कुछ बहुत ज्यादा कामयाब हुई तो कुछ नाकाम भी हुई है। बड़े पर्दें के बाद जब अमिताभ छोटे पर्दें पर आए तो वहां भी उन्होंने जमकर जादू बिखेरा है। उनके द्वारा होस्ट किए गए मेगा शो ’के.बी.सी.’ यानी कौन बनेगा करोड़पति, के अब तक अनेक सीजन आ चुके हैं। यह छोटे पर्दे का सबसे ज्यादा लोकप्रिय शो माना जाता है। अब इसके अगले सीजन की तैयारी चल रही है।

तीन पीढियों से लगातार दर्शकों का मनोरंजन कर रहे अमिताभ अपने साथी कलाकारों से काफी आगे निकल चुके हैं। 77 वर्ष के हो चुके अमिताभ बच्चन, इस उम्र में भी सभी के चहेते मेगा स्टार हैं। सोशल मीडिया पर उनके 17 मिलियन से भी अधिक फोलोअर्स हैं।

प्रस्तुत हैं अमिताभ बच्चन के साथ की गई बातचीत के मुख्य अंश

खबरें आ रही हैं कि अब आप अपने काम से रिटायर होने का मन बना रहे हैं?
मैं तो अपनी आखिरी सांस तक काम करते रहना चाहता हूं लेकिन मेरे स्वास्थ की देखभाल करने वाले डाक्टर चाहते हैं कि अब मैं काम न करूं। उन्होंने मुझे काम न करने की सलाह दी है।

आपने कुछ समय पहले अपने ट्विटर पर लिखा था कि दिमाग कुछ और कह रहा है और उंगलियां कुछ और। लगता है कि मुझे अब रिटायर हो जाना चाहिए?

दरअसल उस वक्त डॉक्टर्स ने मुझे इतना अधिक डरा दिया था कि मुझे लगने लगा था कि मैंने यदि उनकी बात नहीं मानी तो पता नहीं क्या हो जाएगा लेकिन मेरा मन है कि काम से अलग होना ही नहीं चाहता। फिलहाल मैं परिस्थितियों पर पूरी तरह नजर रखे हुए हूं। देखते हैं क्या होता है।

बेशक खुद को काम से अलग करना आपके लिए मुमकिन नहीं है लेकिन अपने स्वास्थ्य के लिए अपने काम को घटा तो सकते हैं लेकिन इसके उलट आप इस उम्र में भी बेहिसाब काम कर रहे हैं?

अपने काम के प्रति मेरी निष्ठा और समर्पण शुरू से ही रहा है। काम को मैंने हमेशा एक साधना, एक तपस्या माना है। शायद इसकी वजह से ही इस उम्र में भी मेरे पास काम है। उस वक्त तो मैं धन्य हो जाता हूं जब इस इंडस्ट्री के बड़े और टेलेंटेड मेकर अपनी फिल्मों के किरदारों के लिए मेरे पास आते हैं। ऐसे में उन्हें इंन्कार करने की हिम्मत मैं चाहकर भी नहीं जुटा पाता।

’गुलाबो सिताबो’ में आपने इस पीढ़ी के सबसे ज्यादा टेलेंटेड आयुष्मान खुराना के साथ काम किया। एक एक्टर के रूप में उनके अंदर आपको किस तरह की खूबियां नजर आईं ?

आयुष्मान बहुत मंजे हुए कलाकार हैं। मैं क्या मुझे लगता है कि हमारी पीढ़ी में कोई भी कलाकार उनकी तरह टेलेंटेड नहीं है। वैसे आज के दौर में जो लड़के लड़कियां आ रहे हैं, वे हमारे दौर के कलाकारों के मुकाबले ज्यादा प्रेक्टिकल और टेलेंटेड हैं। हमें तो आधी फिल्म करने के बाद समझ में आता था कि हमारे केरेक्टर की असल रिक्वायरमेंट क्या है जबकि आज के ये बच्चे तो पहले दिन से बिलकुल क्लीयर होते हैं।

ओ.टी.टी. पर ऑन स्ट्रीम हुई ’गुलाबो सिताबो’ को ऑडियंस का बहुत अच्छा रिस्पांस नहीं मिल सका लेकिन फिर भी लोगों को लगता है कि जिस तरह से आपने फिल्म में एक लालची बूढे व्यक्ति का जबर्दस्त किरदार निभाया, उसमें आप अव्वल रहे ?

मेरी पीढ़ी के लोगों को लगता है कि मैं अव्वल था और आज की पीढ़ी आयुष्मान को उम्दा मानती है। व्यक्तिगत तौर पर मुझे भी फिल्म में आयुष्मान का काम ज्यादा पसंद आया।

इस वक्त आपके पास कौन कौन सी फिल्में हैं?

प्रोडयूसर निकिता दत्ता और निर्देशक नाग अश्विन की फिल्म है। इसमें मैं प्रभास और दीपिका के साथ हूं। इसके अलावा अजय देवगन और रकुल प्रीत सिंह के साथ एक फिल्म ’मेडे’ कर रहा हूं। ’चेहरे’ ’ब्रम्हास्त्रा’ और ’झुंड’ जैसी फिल्में भी हैं।

(अदिति)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »