बेल्जियम के सफ़र पर चली बिहार की रंगबिरंगी टोकरियाँ

बेल्जियम के सफ़र पर चली बिहार की रंगबिरंगी टोकरियाँ

पटना/ बिहार प्राचीन काल से ही ज्ञानोपार्जन का एक प्रमुख केंद्र रहा है| बौद्ध काल में स्थापित नालन्दा विश्वविद्यालय के अलावा, यहाँ कई ऐसे केंद्र रहे जहाँ विभिन्न प्रकार की कला विधा ने जन्म लिया | हमें, यह कहने में भी अतिश्योक्ति नहीं होनी चाहिए की बीते समय में यहाँ का हर एक गाँव, क़स्बा प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से किसी न किसी कला विधा के विकास के लिए प्रयासरत था | 

प्राचीन कलाओं में सुजनी आर्ट, सिक्की आर्ट, मिथिला पेंटिंग आदि कुछ ऐसी कला विधाएं हैं जिसने पुरे भारत ही नहीं , विश्व स्तर पर भी अपनी पहचान बनायी है | परन्तु कई ऐसी कला विधाएँ भी हैं जो सामाजिक उदासीनता, औद्योगीकरण आदि कारणों से विलुप्त होने के कगार पर है| बावजूद इसके वर्तमान समय में भी ऐसे कई कला प्रेमी व संरक्षक मौजूद हैं जो तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद इन अमूल्य धरोहरों को संजोने और संरक्षित रखने में प्रयासरत हैं l 

ऐसी ही एक विलुप्तप्राय कला को संरक्षित रखने में लगी हैं 60 वर्षीय राजकुमारी देवीl समस्तीपुर जिले के वारिसनगर प्रखंड की  निवासी राजकुमारी जी कुश, धागे और उन की सहायता से ऐसे ऐसे मनमोहक डिजाइन की टोकरियां तैयार करती हैं कि कोई एक बार देखे, बस देखता ही रह जाए | राजकुमारी जी ने अपनी माँ से विरासत के रूप में मिली इस कला विधा में अपने कुछेक परिवारजनों को भी प्रशिक्षित किया है l
हालांकि, कुछ दिनों पहले तक, राजकुमारी जी की डिजाइन टोकरियों की पहुँच उनके रिश्तेदारों और सगे-संबंधियों तक ही सीमित थी l लेकिन एक दिन अचानक, सामाजिक कार्यकर्ता अर्चना रानी की नजर उनकी टोकरियों पर पड़ी और फ़िर वहाँ से शुरू हुआ इनके बेल्जियम जाने का सफर l

हुआ कुछ यूं की श्रीमती रानी को ये टोकरियों इतनी पसंद आयीं की उन्होंने इन्हें बनाते हुए राजकुमारी जी का एक छोटा सा वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया जिसे देश दुनिया के बहुत सारे लोगों ने देखा और सराहा l बेल्जियम में रहने वाली तनुजा झा और पटना की मनीषा सिंह को ये डिजाइनर टोकरियाँ इतनी पसंद आयीं की उन्होंने तुरंत श्रीमती रानी से संपर्क करके 10 टोकरियाँ बनाने का पहला ऑर्डर राजकुमारी जी को दे दिया l हालाँकि 60 वर्षीय राजकुमारी जी के लिए अकेले इतने बड़े ऑर्डर को पूरा कर पाना नामुमकिन ही था, लेकिन ऐसे में उनकी सहायता के लिए आगे आईं अनीता देवी पति रघुनाथ प्रसाद, विभा देवी पति दया नाथ प्रसाद और प्रीति कुमारी पिता रघुनाथ प्रसाद l 
इन सब के संगठित प्रयास से ये ऑर्डर ससमय पूरा तो हो गया लेकिन corona महामारी के कारण लगे lockdown की वजह से टोकरियाँ अपने सफर पर निकल नहीं पाईं l

अब जब स्थिति सामान्य होने लगी हैं तब एक बार फिर से इन्हें बेल्जियम भेजने की तैयारी के साथ साथ अधिकाधिक ग्रामीण महिलाओं को इस कला में प्रशिक्षित करने की कवायद भी शुरू हो गई है l इसी उद्देश्य से रविवार को वारिसनगर प्रखंड के labhatta गाँव में आयोजित कला जागरूकता शिविर में श्री मति अर्चना रानी ने ग्रामीण महिलाओं से इस कला को विलुप्त होने से बचाने के लिए संगठित होकर अथक प्रयास करने का आह्वान किया l 

उन्होंने कहा कि  ऐतिहासिक कला और संस्कृति को संजोये रखना हम सब का परम कर्तव्य है इसलिए आप सबको एक समूह बनाकर संगठित रूप से काम करने की जरूरत है, क्योंकि इससे व्यक्तिगत विकास के साथ साथ सामाजिक-आर्थिक विकास सम्भव है l नए ज़माने में सोशल मीडिया और इंटरनेट आदि माध्यमों से जैसे जैसे लोग इस कला के बारे में जानेंगे वैसे वैसे आप सब को मिलने वाले ऑर्डरों की संख्या में भी बढ़ोतरी होगी जिससे आप सब अपने खाली समय का सदुपयोग कर उचित पारिश्रमिक भी पा सकेंगी l शिविर में कई गणमान्य लोग उपस्थित थेl

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »